Secret of Success in hindi | सफलता के सूत्र personality development in hindi

नमस्कार दोस्तों आज आपके लिय सफलता के सूत्र (Secret of Success) लेके आया हु , यह जानकारी आपके व्यक्तित्व विकास ( personality development) के लिय अत्यधिक महत्वपूर्ण है, जीवन में सफलता के सूत्र (Secret of Success in hindi) बहुत ही छोटे है पर सफलता पाना लोगो के लिय बहुत मुस्किल हो जाता है में आपसे एक प्रश्न करता हू, सफलता (Success) आखिर है क्या ? आखिर सफलता के रहस्य (saphalata ka raaj) क्या है ? आइये जानते है कुछ सफलता के सूत्र हिंदी में (Secret of Success in hindi ) जो आपके व्यक्तित्व विकास (personality development in hindi) के लिय जरुरी है आइये जानते है.

Secret of Success in hindi | सफलता के सूत्र |personality development in hindi

जैसा की हमने आपसे ऊपर कुछ प्रश्न पूछा था ( personality development tips in hindi )

  1. सफलता (Success) आखिर है क्या ?
  2. आखिर सफलता के रहस्य (saphalata ka raaj) क्या है ?
  3. व्यक्तित्व विकास (personality development) के लिय क्या जरुरी है ?

इन सभी प्रश्नों का उत्तर यह है की हम जो चाहते हैं उसे पा सकें, यही सफलता (Success) कहलाती है। इस सफलता को पाकर जो सुख की अनुभूति होती है वह अवर्णनीय है। इस सफलता को पाने के कुछ सूत्र हैं। आप भी इन्हें अमल में लाइये 

यह भी देखे : विश्वास (believe) तथा भरोसा (trust) में अंतर- श्रीमति माधूरी बाजपेयी

सफलता के सूत्र | Secret of Success in hindi

1. personality development के लिय जरुरी है किसी कार्य में असफल होने पर भाग्य को दोषी न मानकर पूरी शक्ति व निष्ठा के साथ अपने लक्ष्य की प्राप्ति में जुट जाइये । अपनी आँख अर्जुन की भांति सिर्फ अपने लक्ष्य पर केन्द्रित रखिये।

2. जीवन में सफलता प्राप्त करने (achieve success in life) के लिए एकांकीपन, भय, संकोच. भावुकता तथा हीन भावना जैसे अवगुणों को अपने पास फटकने भी न दें। 

3. अपनी लगन, इच्छा व परिश्रम में निराश व आलस्य की छाया न पड़ने दें।

4. अपना लक्ष्य निर्धारित करके ही उसकी सफलता की ओर बढ़े। ऐसा न हो कि आपकी नीति के दुल-मुल हो जाने से असफलता ही हाथ लगे।

5. एक से अधिक लक्ष्य होने पर उनकी प्राथमिकता के अनुसार निश्चित करें और निष्ठा व लगनपूर्वक हर लक्ष्य की ओर बढ़े ताकि सफलता मिले।

6. कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है। (You win some, you lose some) वह भी किसी सीमा तक ही जैसे एक गृहिणी जब लेखिका बनकर अपनी पहचान बनाना चाहती है तो उसे अपनी नींद व गप्पबाजी को त्यागना ही पड़ता है। नींद, आलस्य, गप्प-गोष्ठी या यूं ही ताक-झाक से समय बर्बाद करने जैसी आदतों को त्यागकर ही अपने लक्ष्य की ओर कदम उठाए।

7. हर इन्सान के जीवन में एक बार सुअवसर दस्तक देता है। उस क्षण को पहचानकर पकड़ने का प्रयत्न करें। यदि एक बार सफल न हो पाएं तो पछताकर या रो-रोकर समय बर्बाद न करें। नये अवसर आपकी राह में रहेंगे। बस आपकी मेहनत, लगन व एकाग्रता आवश्यक होगी।

8. अपनी असफलता को भाग्य, भ्रष्ट्राचार या फिर सिफारिश-रिश्वत के लिए धन की कमी जैसे कुंठित विचार लाकर अवसर को मत टालिए। जुट जाइये सफलता पाने की चेष्टा में। 

Secret of Success in hindi | सफलता के सूत्र |personality development in hindi

9 जीवन में हर कार्य सोच-समझकर अपनी शक्ति और योग्यतानुसार ही चुनें और उसे पूर्ण करके ही दम लें, चाहें वह कितना ही मुश्किल क्यों न हो।

10. लक्ष्य निर्धारण में दिग्भ्रमित न हों। जीवन में सफलता तभी मिलती है जब कार्य योजनाबद्ध तरीके से किया जाए। सफलता पाने के लिए समय का महत्व समझे। उसका एक-एक पल उपयोग में लाए।

11. ऐसे लोगों से अपना सम्बन्ध बनायें जो आपकी तरह महत्वाकांक्षी व परिश्रमी हों, सच्चे व दृढ़-इच्छाशक्ति वाले हों। निराश व्यक्ति का साथ निराशा ही पनपाएगा। निराशा सफलता की घोर दुश्मन है। personality development के लिए यह लाइन हमेसा याद रखे

12. बहानेबाजी या टालते रहने की प्रवृत्ति मनुष्य को अकर्मण्य बनाती है। समस्या का समाधान करें, घबराकर पलायन न करें। असफलता ही सफलता का मार्ग प्रशस्त करती हैं। आप निरंतर प्रयासरत रहें। सदैव सकारात्मक विचारधारा अपनाएं, आशावादी बनें क्योंकि निराशावादी विचारधारा ही व्यक्ति को कुंठित कर असफलता की ओर धकेलती जाती है।

13.आज के प्रगतिशील युग में विकलांग भी पीछे नहीं हैं। वे किसी भी कलात्मक हॉबी को निखारकर अपने पैरों पर खड़े हो सकते हैं। इस प्रकार वे परिवार में, समाज में आत्मसम्मान से जी सकते हैं। बस देर है सिर्फ अपनी योग्यता की पहचान कर उसमें सम्पूर्ण शक्ति से जुट जाने की, और पहना डालिए अपनी मेहनत को सफलता का जाम । तब सफलता आपकी जिन्दगी का साया बन जायेगी।

14 मूड नहीं बना है या ‘अभी मूड नहीं है नामक बीमारी से बचें। अच्छा समय मूड के कारण रुकता नहीं है, और इस प्रकार, अच्छा अवसर मुट्ठी से रेत की भांति फिसल जाता है। इसके बाद रह जाता है केवल पछतावा।

15. मनोवैज्ञानिकों ने सिद्ध किया है कि अपनी किसी भी प्रिय हॉबी को निखारकर सफलता प्राप्त करने के साथ-साथ जीवन की उबकाई, नीरसता तथा असंतोष से बचा जा सकता है।

16. मंद स्मृति से पीड़ित बच्चों पर शोध कर रहे वैज्ञानिकों ने प्रमाणित किया है कि यदि उनको कलात्मक हॉबी की ओर प्रेरित किया जाए तो उनका शारीरिक और मानसिक विकास तीव्र गति से होता है। नयी प्रेरणा ही उनकी जिन्दगी का मील का पत्थर साबित हो सकती है।

सफलता की पगडंडी | Secret of Success in hindi

हर व्यक्ति हर काम में, हर प्रयास में सफल ही हो, यह आवश्यक नहीं है। असफल व्यक्ति समाज में अपने कार्यों में पिछड़ जाता है। उसे कदम-कदम पर विषम या प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है परन्तु जिस व्यक्ति ने सफलताओं का इतिहास रचा है, वही इस समाज में सम्मान पाता है। अपनी पहचान स्थापित करता है और समाज के अन्य व्यक्तियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनता है।

इस तथ्य को शायद ही कोई अस्वीकार करेगा । पर, में सर्वश्रेष्ठ सफलता या सर्वाधिक ऊंची सफलता प्राप्त करना आसमान से तारे तोड़ने के समान नहीं तो भगीरथ प्रयत्नों के समान अवश्य है। दूसरों से सम्मान पाने का सीधा-सा अर्थ है कौन आप को स्वीकार करें, आपके व्यक्तित्व की गरिमा मानें। यह वह स्थिति है जहां पहुंचकर व्यक्ति को दूसरों के सम्पर्क में आने पर अपना परिचय देने की जरूरत नहीं पड़ती। आपका स्थान अपने आप पहचान बन जाता है। हममें से प्रत्येक आदमी इसी ध्येय को लेकर दिन रात परिश्रम कर रहे हैं, पर यह निश्चित मानिए कि हर व्यक्ति को इस प्रकार की स्वर्णिम सफलता पाने के लिए एक लम्बा रास्ता तय करना पड़ता है।

एक सफल व्यक्ति उसे माना जाता है जिसने जीवन में पग-पग पर सफलता प्राप्त कर ली है, जिसने जीवन में कोई उद्देश्य निश्चित किया था, जिसे उसने प्राप्त कर लिया हैं। सफलता पाने का दृढ़ निश्चय करने वाले व्यक्ति के सभी प्रयत्न उसी दिशा में होते हैं। ऐसा व्यक्ति अपने प्रत्येक कार्य में दृढ़ विश्वास अर्जित कर लेता है। जो भी काम वह हाथ में लेगा उसके लिए वह असफलता की सोच ही नहीं सकता। सफलता मिलेगी ही और यही (top Secret of Succes in hindi) विश्वास सफल व्यक्तियों का रहस्य भी है। समाज भी ऐसे व्यक्तियों की ओर मार्गदर्शन उम्मीद भरी दृष्टि से देखता है। वह अपने दूसरे साथियों के लिए आदर्श बन जाता है। साथ ही लोग उसकी अभूतपूर्व सफलता की मिसाल देते हैं।

Secret of Success in hindi | personality development in hindi

 यहां पर एक प्रश्न उठता है कि सफल व्यक्तियों को गति कहा से मिली ? या उनके कदमों को प्रोत्साहन-प्रेरणा कहां से मिली ? यदि सफलता पानेवाले व्यक्तियों के जीवन का अध्यन किया जाए तो इन सफल व्यक्तियों की कार्य प्रणाली में जीवन जीने के तरीके में समान्य गुण दूढ़े जा सकते है। इन सामान्य गुणों को यूं गिनाया जा सकता है.personality development tips in hindi :-

सफलता पानेवाले व्यक्तियों के जीवन का अध्यन | study success mantra

1. जीवन में वे धैर्यपूर्वक निरन्तर आगे बढ़ते रहे। मार्ग से भटके नहीं; प्रयत्नों में शिथिलता नहीं आने दी।

2. उन्होंने एक ऐसे दूर चरित्र का विकास कर लिया जो कठिनाइयों का सामना करते हुए उद्देश्य प्राप्ति की ओर बढ़ते रहे। आरंभ, में मिली सामान्य सफलता से उन्हें सन्तोष नहीं हुआ तथा निरन्तर आगे बढ़ना जारी रखा।

4. उन्होंने अपनी शिक्षा पर पूरा ध्यान दिया। शिक्षित बनने के लिए हर संभव प्रयत्न किए, और वह भी सही अर्थों में। शिक्षा व्यक्ति के चरित्र एवं व्यक्तित्व विकास के लिये अत्यधिक महत्वपूर्ण है

personality development tips in hindi :- ऐसे सभी सफल लोगों ने योजनानुसार कार्य किया और अपने ध्येय की ओर बढ़ते ही रहे। काम के वे पुजारी बन गए। कोई प्रयत्न अधूरा नहीं छोड़ा जब तक कि उद्देश्य की प्राप्ति न हो गयी। और सबसे महत्वपूर्ण बात ये कि इन सभी लोगों के प्रयत्न सकारात्म्क रहे ये कर्म के सच्चे योगी गंभीर तथा प्रतिभासम्पन्न थे। जब प्रतिभा सम्पन्न कहते हैं तो यह याद रखा जाना चाहिए कि 90 प्रतिशत तो अपने सजग प्रयत्न है, परिश्रम है तथा मात्र 10 प्रतिशत उत्प्रेरणा है, दूसरों का परामर्श है।

सफल व्यक्ति | Successful person

व्यवहार में देखा जाता है कि अधिकांश सफल या महान व्यक्तियों ( Successful person) में एक ही नहीं कई गुणों का मेल होता है; कई लक्षण एक साथ मिलते हैं। उदाहरण के लिए पण्डित नेहरू में नेतृत्व संवेदनशीलता सृजनात्मकता, सकारात्मक सोच, सहकर्मियों से मधुर सम्बन्ध, समूह भावना आदि गुण थे और इन्हीं गुणों ने पंडित जी की सफलताओं को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इन सबके साथ ही कुछ लोग भाग्य पर भी विश्वास करते हैं मनोवैज्ञानिकों ने अनुसंधानों में पाया है कि निम्नांकित गुणों ने व्यक्तियों की सफलताओं को बहुत अंशों में प्रभावित किया है

व्यावहारिक ज्ञान जब सफल माने गए व्यक्तियों से सफलता के रहस्य (Secret of Success) के बारे में पूछा गया तो लगभग 80 प्रतिशत व्यक्तियों ने सामान्य व्यावहारिक ज्ञान को महत्वपूर्ण बताया। उत्तर देने वाले सामान्य ज्ञान का आशय समझ रहे थे कि दैनन्दिन कार्यों में व्यावहारिक या कार्यकारी ठोस निर्णय लेना। अधिकांश उत्तरदाता अनुभव करते हैं कि सामान्य या व्यावहारिक ज्ञान-गुण जन्म से नहीं मिलता है, पर अनुभव से अर्जित किया जा सकता है। किसी विषय पर स्वस्थ बातचीत करके विचार-विमर्श से विषय वस्तु की गहराई में जाकर इसकी मात्रा बढ़ाई जा सकती है।

कुछ लोगों का विचार है कि दूसरे लोगों का व्यवहार देखकर अपने व्यवहार का मूल्यांकन कर तथा अपनी गलतियां न दोहराने का निश्चय कर गुण-दोषों की निर्णयात्मक विवेचना से इसे बढ़ाया जा सकता हैं। कार्य का क्षेत्र हर व्यक्ति का अपना कार्य-क्षेत्र होता हैं। सभी व्यक्ति सभी क्षेत्रों में दक्ष नहीं होते। जब सफल व्यक्तियों से उनकी सफलता ( Success) के विषय में जाना गया तो उनमें से तीन चौथाई का कहना था कि उन्हें अपने कार्य क्षेत्र का पूरा ज्ञान था। उनका यह भी कहना था कि विषय-ज्ञान में कुशलता या निपुष्पती ही मुख्य बिन्दु है। गणितज्ञ रामानुजम को कौन नहीं जानता। ये अपने विषय की बारीक-से-बारीक जानकारी रखते थे अपने ज्ञान को बार-बार व्यवहार में लाकर उन्होंने अपने क्षेत्र में निपुणता प्राप्त की थी।

अधिकांश लोगों का मानना था कि विशिष्ट ज्ञान या तकनीक किसी विद्यालय या प्रशिक्षण केन्द्र की अपेक्षा स्वाध्याय से या अध्यापन से प्राप्त किया जाता है। एक औद्योगिक संस्थान के उपाध्यक्ष का कहना था कि यदि कोई आदमी निपुण बनना चाहता है तो निपुण बन चुकने के बाद भी उसे स्थाई रूप से निपुण बने रहने के लिए सतत् सीखते रहना होगा इससे स्पष्ट है कि निपुणता प्राप्त करने के लिए सीखने की प्रक्रिया कभी बन्द नहीं होनी चाहिए।

आत्मनिर्भर होना | Secret of Success

 किसी भी काम या बात के लिए दूसरों पर निर्भर न रहिए, उनके भरोसे न रहिए। आप जिनसे जिस वक्त सहायता की आशा करें संभव है वह उस वक्त न कर पाए। इसी भांति आप अपने गुणों, साधनों एवं योग्यलाओं के अनुसार ही कार्य स्वीकार करें अधिकांश उत्तरदाता अपने गुणों, योग्यताओं, साधनों तथा कुशलताओं के प्रति आश्वस्त थे तथा उन पर निर्भर रहते थे।

आत्मनिर्भरता का मतलब केवल यही नहीं कि आप अपने आप में निपुण या योग्य हैं या आप अपने बारे में ऐसे-कैसे सोचते है ? परन्तु, महत्वपूर्ण यह है कि आप विषम परिस्थितियों में निर्णय कैसे लेते हैं। उलझनपूर्ण परिस्थिति में निर्णय लेने का कौशल प्राप्त है या नहीं इस कार्य में दक्षता हासिल करने के लिए योग्यता तथा इच्छाशक्ति की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

सामान्य बुद्धि | Secret of Success

 किसी भी कार्य की सफलता में बुद्धि एक महत्वपूर्ण तत्व है। पांच में से दो व्यक्तियों के अनुसार सफलता (Success) पाने के लिए यह एक महत्वपूर्ण कारक हैं। प्रखर या मेधावी बुद्धिवाला व्यक्ति गंभीर समस्या के मूलरूप को जान लेता है। वह बात ही बात में समस्या के कारणों का भी विश्लेषण कर लेता है तथा शीघ्र निर्णय लेने की स्थिति में आ जाता है। तब ऐसी स्थितियां निर्मित हो जाती हैं। मनोवैज्ञानिकों में मतभेद है कि बुद्धि जन्मजात गुण है कुछ अन्य मनोवैज्ञानिकों का दल ऐसा भी है जो इसे अर्जित तत्व मानता है। बौद्धिक विचार-विमर्श तथा विविध रुचियां भी इनके अनुसार अर्जित तत्व ही हैं।

सफलता प्राप्ति के लिए | Secret of Success

सर्वाधिक महत्वपूर्ण है योजना (Plan of success) बनाना तथा दृढ़ता के साथ उसके अनुसार कार्य करना। सफल प्रबन्धकों में से तीन चौथाई इस राय के पाये गये है कि सफलता (success) के लिए उच्च स्तरीय कार्यकारी योग्यता होनी चाहिए। अधिकांश का मानना था कि कार्य करवाने में संयुक्त रूप से निम्नलिखित तत्वों ने उनकी मदेष्ड की थी।

ये तत्व है-

  1. संगठनात्मक योग्यता,
  2. कार्य करने की स्वस्थ
  3. आदतें तथा कठिन परिश्रम।

आपको यह जानकारी, (Secret of Success in hindi | सफलता के सूत्र |personality development in hindi ) कैसी लगी कृपया हमें कमेन्ट करके जरूर बताय और अपने सभी मित्रो को शेयर जरुर करे एसे personality development tips hindi में पाने के लिए आप हमसे हमारे Whatsapp (वाट्सऐप) ग्रुप में अभी ज्वाइन हो सकते है ……click here

Related Articles

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

Stay Connected

345FansLike
39FollowersFollow