भारत और नेपाल के बीच कालापानी विवाद हो गया है ? imp gk

0
10
imp gk news
imp gk

Imp gk :- भारत और नेपाल के बीच एक बार फिर से ‘कालापानी विवाद’ का मुद्दा सुर्खियों में है. नेपाल का कहना है, कि आपसी संबंधों में दरार पड़ने से रोकने हेतु कालापानी मुद्दे को सुलझाना अब बहुत ही जरूरी है . यह जानकारी जरुरी ( imp gk) है .

नेपाल की संसद ने सर्वसम्मति से अपनी सरकार से कालापानी क्षेत्र में भारत-नेपाल सीमा विवाद के कूटनीतिक समाधान के प्रयासों को तेज करने को कहा है.

कालापानी विवाद (imp gk)

नेपाल की सुप्रीम कोर्ट ने अपनी सरकार को साल 1816 में की गई ‘सुगौली संधि’ के दौरान भारत को सौंपे गए नक्शे की वास्तविक प्रति पेश करने का निर्देश दिया है. यह नक्शा नेपाल सरकार को 15 दिन के अंदर अपनी सुप्रीम कोर्ट को दिखाना होगा.

भारत सरकार ने 02 जनवरी 2019 को जोर देकर कहा कि जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन के बाद जारी किए गए भारत के नए राजनीतिक नक्शे में सीमाओं का सही चित्रण किया गया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि नए नक्शे में नेपाल के साथ लगी हमारी सीमा में किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया है.

क्या है विवाद (imp gk)

दरअसल पिछले साल 31 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर का विभाजन आदेश लागू होने पर भारत ने नवंबर में अपना नया भू-राजनीतिक नक्शा जारी किया था. नेपाल ने इस नक्शे पर आपत्ति जताई थी.

नेपाल का कहना था कि उसके क्षेत्र में होने के बावजूद कालापानी, लिपुलेक तथा लिम्पियाधुरा क्षेत्रों को भारत ने नक्शे में अपना हिस्सा दिखाया है. हालांकि भारत का कहना है कि नए नक्शे में उसके संप्रभु क्षेत्र का सही-सही चित्रण है. भारत का कहना है कि इसमें नेपाल के साथ अपनी सीमा में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

सुगौली संधि क्या है?

नेपाल और ब्रिटिश इंडिया के बीच सुगौली संधि साल 1816 में हुआ था. इस संधि के अंतर्गत नेपाल को अपने नियंत्रण वाले क्षेत्रों से उन सभी हिस्सों पर हक छोड़ना था, जो नेपाल के राजा ने युद्धों में जीतकर हासिल किए थे. इनमें पूर्वोत्तर में सिक्किम रियासत तथा पश्चिम में कुमाऊं और गढ़वाल के क्षेत्र भी शामिल थे. इसमें कालापानी इलाके से होकर बहने वाली ‘महाकाली नदी’ भारत-नेपाल की सीमा मानी गई है.

GK पढ़ते हो तो इन Quiz को हल करके दिखाओ !gk quiz question

join Gk and current affairs whatsapp grup click hear

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here