huygens wave theory in hindi/हाइगन का तरंग सिद्धांत क्या है

huygens wave theory in hindi (हाइगन का तरंग सिद्धांत क्या है)

न्यूटन के समकालीन एक डच वैज्ञानिक हाइगन ने 1678 प्रकाश तरंग सिद्धांत प्रस्तावित किया।

इस सिद्धांत के अनुसार :- ” एक समांग माध्यम ईथर में प्रकाश तरंग गति के रूप में होता है। माध्यम के यांत्रिक दोलनो ने कारण प्रकाश होता है। यह माध्यम सर्वत्र व्याप्त है और उसमे जड़त्व और प्रत्यास्थता जैसे गुण होते है। आँख में प्रवेश करने वाली तरंगो के कारन द्रष्टि बोध का होना माना गया। “

हाइगन का विश्वास था कि ये तरंगे अनुदेर्य है। ईथर में होने वाले इस उद्वेलनो को समान वेग से सभी दिशाओ में जाते हुए तथा एनी ईथर कणों को उत्तेजित करके द्वितीयक तरंगो के स्त्रोत मानते हुए , वह परावर्तन ,अपवर्तन की घटनाओं को समझने में सफल रहा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *