13 वा G-20 शिखर सम्मेलन,प्रधानमंत्री मोदी के 9 सूत्र,RIC त्रिपक्षीय वार्ता ,G20 के बारे में

13 वा G-20 शिखर सम्मेलन

विश्व की 20 सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं का वार्षिक G 20 शिखर सम्मेलन 2018 दक्षिण अमेरिकी देश अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में 30 नवंबर से 1 दिसंबर 2018 तक आयोजित हुआ , यह इस वार्षिक सम्मेलन का तेरवा संस्करण था तथा यह पहला अवसर था जब यह सम्मेलन दक्षिण अमेरिका महाद्वीप में आयोजित किया गया अर्जेंटीना के राष्ट्रपति मॉरिशियो माकरी ने ब्यूनस आयर्स में स्थित किर्चनर कल्चरल सेंटर में एक औपचारिक कार्यक्रम में 30 नवंबर 2017 को जी-20 के अध्यक्ष का पद 1 वर्ष के लिए ग्रहण किया था ! 13 वें जी 20 शिखर सम्मेलन में 19 देशों के राष्ट्राध्यक्ष या शासनाध्यक्ष तथा यूरोपीय संघ (EU) ने भाग लिया भारत का प्रतिनिधित्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया संयुक्त राज्य अमेरिका को छोड़कर जी-20 देशों ने जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौते के क्रियान्वयन पर सहमति व्यक्त की , दो दिवसीय बैठक के समापन पर जी-20 नेताओं द्वारा घोषणा पत्र जारी किया जिसमें आतंकवाद से निपटने के हैंबर्ग लीडर्स अभी कथन पर भी सहमति व्यक्त की गई !
srdnews

घोषणा पत्र

इस सम्मेलन में जारी घोषणापत्र कार्य के लिए भविष्य विकास के लिए अवसंरचना सतत खाद भविष्य व लैंगिक समानत ( future for work in structure for development a sustainable food future and on gender equality )पर केंद्रित रहा !
घोषणा पत्र में बातचीत को बढ़ावा देने तथा आम सहमति बनाने के लिए एक समान आधार बनाने पर जोर दिया गया आम सहमति के लिए समाज के एकजुट होने की आवश्यकता की बात कही गई घोषणा पत्र में व्यापार के मुद्दे पर मतभेद पर समाधान की आवश्यकता का भी उल्लेख किया गया परंतु संरक्षणवाद की आलोचना नहीं की गई !

प्रधानमंत्री मोदी के 9 सूत्र

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सम्मेलन के दौरान अपने संबोधन में भगोड़ा आर्थिक अपराधियों पर शिकंजा कसने के लिए जी-20 देशों के साथ आने की अपील की प्रधानमंत्री मोदी ने आर्थिक अपराधियों से निपटने के लिए निम्न 9 प्वाइंट एजेंडा रखा –
  1.  सदस्य देशों में प्रभावी सहयोग प्रक्रिया। 
  2. कार्रवाई वह शीघ्र प्रत्यर्पण के लिए सहयोग। 
  3.  भगोड़े को रोकने के लिए तंत्र का विकास। 
  4.  भ्रष्टाचार के विरुद्ध संयुक्त राष्ट्र के सिद्धांत प्रभावी रूप से लागू करने पर बल. 
  5.  FATF के जरिए संबंधित संस्थाओं में सूचनाओं का आदान-प्रदान। 
  6.  अपराधियों के प्रत्यर्पण के लिए सभी की सहमति से मानकों की स्थापना।
  7. भगोड़े अपराधियों की परिभाषा FATF द्वारा तय की जाए.
  8.  नियमों की कमियों पर सफल प्रत्यर्पण के अनुभव सांझा करने की संयुक्त मंच की स्थापना। 
  9. G 20  द्वारा बकाया ऋण वसूली के लिए ऐसे अपराधियों की संपत्ति पर का पता लगाने पर विचार।

RIC त्रिपक्षीय वार्ता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी-20 शिखर सम्मेलन से अलग रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से त्रिपक्षीय वार्ता की , जिसमें विभिन्न क्षेत्रों में आपसी सहयोग पर चर्चा की ! इस त्रिपक्षीय बैठक को RIC (रूस इंडिया चीन) नाम दिया गया। इस बैठक के दौरान तीनों देशों ने विश्व की शांति और समृद्धि के लिए मिलकर कार्य करने की आवश्यकता पर बल दिया साथ ही तीनों देशों के नेताओं द्वारा आतंकवाद और जलवायु परिवर्तन जैसी वैश्विक चुनौतियों का सामना करने और सभी मतभेदों के शांतिपूर्ण समाधान के लिए तंत्र विकसित करने पर भी जोड़ दिया गया।

2022 में भारत करेगा मेजबानी

भारत द्वारा वर्ष 2022 में जी-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी की जाएगी वर्ष 2022 में भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होंगे प्रधानमंत्री मोदी ने जी-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी भारत को मिलने के बाद इसके लिए इटली को धन्यवाद दिया ज्ञातव्य है कि वर्ष 2022 में जी-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी इटली को करनी थी।
srdnews g20

G20 के बारे में

यह समूह अपने सदस्यों के अंतरराष्ट्रीय आर्थिक सहयोग और निर्णय लेने के लिए एक प्रमुख मंच है जिसकी स्थापना वर्ष 2008 में वैश्विक संकट के समय की गई थी इसके सदस्यों में अर्जेंटीना , ऑस्ट्रेलिया , ब्राज़ील, कनाडा , चीन, फ्रांस ,जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया ,इटली ,जापान, दक्षिण कोरिया , मेक्सिको, रूस ,सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की ,यूनाइटेड किंग्डम ,संयुक्त राज्य अमेरिका, और यूरोपीय संघ शामिल है।


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *