भारत के प्रसिद्द वैज्ञानिक और उनके आविष्कार ,Famous Scientist of India,

प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक और उनके आविष्कार

आज की जानकारी बहुत ही महत्वपूर्ण है ,आज हम हमारे देश के एसे लोगो के बारे में जानने वाले है जिन्होंने कुछ एसा करके दिखाया जिससे उनका नाम हमारे देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में उनका नाम हो गया। उन्होंने अपना और हमारे देश का नाम रोशन किया। आज हम जानेंगे डॉ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम के बारे में ,इनके बारे में कौन नई जानता (भारत के पूर्व राष्ट्रपति , भारत रत्न ,मिशाइल मैन, बहुत सारे नाम से इनको जाना जाता है ) और हम जानेंगे डॉ सी.वी.रमन ,विक्रम साराभाई ,डॉ जगदीश चन्द्र बोस ,डॉ होमी जहागीर भाभा ,बीरबल साहनी ,हरगोबिन्द खुराना ,और भी प्रसिद्ध वैज्ञानिको के बारे में। यह परीक्षा की द्रष्टि से बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है। तो चलिए जानते है।

क्या आप जानते है ?

  • बुनसेन बर्नर किसके सिध्दांत पर कार्य करता है ?
  • बैटरी में इस्तेमाल नाइट्रोजन का यौगिक क्या है ?
  • कालाजार बीमारी कौनसी मक्खी से फैलती है ?
  • आवर्त सारणी का पहला तत्व कोनसा है ?
  • जंगरोधी इस्पात का अविष्कार किसने किया था ?

चंद्र्शेखार वेंकटरमन का जन्म 7 नवंबर 1888 में हुआ, तथा उनका निधन 21 नवंबर 1970 में हुआ था। ये भारतीय भौतिकशास्त्री थे। उनका अविष्कार उनके ही नाम पर रमन प्रभाव के नाम से जाना जाता है। इन्होने इस खोज की घोषणा 29 फरवरी 1928 ई को की। प्रकाश के प्रकीर्णन पर उत्कृष्ट कार्य के लिए वर्ष 1930 में उन्हें भौतिकी पर प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार दिया गया। 1954 ई में उन्हें भारत सरकार द्वारा भारत रत्न की उपाधि से विभूषित किया गया तथा 1957 में लेनिन शांति पुरस्कार प्रदान किया गया था।डॉ. सी.वी.रमन

डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम

भारत के पूर्व राष्ट्रपति एवं भारत रत्न डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम ‘मिसाइल मैंन ‘ के नाम से जाने जाते है। 1962 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में शामिल हुए। डॉ. कलाम को प्रोजेक्ट डायरेक्टर के रूप में भारत का पहला स्वदेशी उपग्रह ( एस. एल. वी. -3 )प्रक्षेपात्र बनाने का श्रेय प्राप्त है। 1980 में कलाम ने रोहणी उपग्रह को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित किया था और इन्ही के प्रयासों की वजह से भारत भी अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष क्लब का सदस्य बन सका। इसरो लांच व्हीकल प्रयोग को परवान चढ़ाने का श्रेय भी इन्हे ही प्रदान किया जाता है। डॉ. कलाम ने स्वदेशी लक्ष्य भेदी (गाइडेड मिसाइल )को डिजाइन किया। ख़ास बात यह है की इन्होने अग्नि एवं पृथ्वी जैसी मिसाइलों को स्वदेशी तकनीक से बनाया।

विक्रम साराभाई

विक्रम अम्बालाल साराभाई भारत के अंतरिक्ष इतिहास के जनक कहे जा सकते है। इस तरह से इन्होने भारत के अंतरिक्ष प्रोग्राम की नीव रखी। उन्होंने देश में 40 अंतरिक्ष और शोध से जुड़े संस्थानों को खोला। उन्होंने आणविक ऊर्जा ,इलेक्ट्रॉनिक और अन्य अनेक क्षेत्रों में भी बराबर का योगदान किया। गुजरात के अहमदाबाद से आने वाले साराभाई पर तिरुवनंतपुरम में स्थापित थुम्बा इक्वटोरियल रॉकेट लांचिंग स्टेशन और संबध अंतरिक्ष संस्थानो का नाम बदलकर विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र रख दिया गया। यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक प्रमुख अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र के रूप में उभरा।

 डॉ. जगदीश चंद्र बोस

डॉ. जगदीश चंद्र बोस को सर बोस भी कहा जाता था। उन्हें भौतिकी ,जीव विज्ञान ,वनस्पति विज्ञान तथा पुरातत्व का गहन ज्ञान था। वे दुनिया के पहले ऐसे वैज्ञानिक थे जिन्होंने रेडिओ और सूक्ष्म तरंगो की प्रकाशिकी का कार्य किया। वे भारत के पहले वैज्ञानिक थे जिन्हे अमेरिकी पेटेंट मिला। पूरी दुनिया में उन्हें रेडिओ विज्ञान का पिता कहा जाता है। इन्होने बेतार के संकेत भेजने में असाधारण प्रगति की और सबसे पहले रेडिओ संदेशो के आदान -प्रदान के लिए अर्द्ध चालकों का प्रयोग प्रारम्भ किया। इन्होने वनस्पति विज्ञान के क्षेत्र में क्रेस्कोग्राफ का अविष्कार किया और इससे विभिन्न उत्तेजको के प्रति पौधो की प्रतिक्रिया का अध्ययन किया जा सकता है।

डॉ होमी जहाँगीर भाभा

डॉ होमी जहाँगीर भाभा के बिना भारतीय परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम की कल्पना भी नहीं की जा सकती। उन्हें आर्किटेक्ट ऑफ़ इंडियन एटॉमिक एनर्जी प्रोग्राम भी कहा जाता है। डॉ होमी जहाँगीर भाभा 1947 में भारत सरकार द्वारा गठित परमाणु ऊर्जा आयोग के प्रथम अध्यक्ष नियुक्त हुए तथा 1953 में जेनेवा में संपन्न विश्व परमाण्विक वैज्ञानिक महासम्मेलन की अध्यक्षता की। उन्ही के कारण 1974 में देश पहला परमाणु परीक्षण करने में सफल रहा। उन्होंने एक तरह से देश को परमाणु शक्ति सम्पन्न बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। चौकाने वाली बात यह थी की उन्होंने नाभिकीय विज्ञान में तब कार्य आरम्भ किया , जब इसके बारे में ज्ञान न के बराबर था जबकि उनकी नाभिकीय ऊर्जा से विद्द्युत उतपादन की कल्पना को तो कोई मानने को तैयार नहीं था।

 सत्येन्द्रनाथ बोस

इस महान भारतीय वैज्ञानिक की महानता का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है की भौतिकशास्त्र में बोसान और फर्मियान नाम के दो अणुओ में से से बोसान सत्येन्द्रनाथ बोस के नाम पर ही है। उन्होंने अपने समय के महान वैज्ञानिक अलबर्ट आइंस्टीन के साथ मिलकर बोस -आइंस्टीन स्टैटिस्टिक्स की खोज की। हिग्स – बोसॉन ,जिसे गॉड पाटिकल की संज्ञा दी जाती है ,का विचार इन्होने पीटर हिग्स के साथ दिया।

डॉ शांतिस्वरूप भटनागर

डॉ. शांति स्वरुप भटनागर का जन्म 1894 में शाहपुर पकिस्तान में हुआ था। 1941 में ब्रिटिश सरकार ने इन्हे नाइट हुड की उपाधि दी। इनके शोध विषय में एमल्ज़न कोलाइड्स एवं ओद्योगिक रसायनशास्त्र थे किन्तु प्रमुख योगदान चुंबकीय रसायनकी के क्षेत्र में था। 1947 में भारतीय स्वतंत्रता के उपरान्त वैज्ञानिक एवं अनुसंधान परिषद (सी. एस. आई. आर. )की स्थापना डॉ. शांति स्वरुप भटनागर की अध्यक्षता में की की गई। इन्हे शोध प्रयोगशाला का जनक भी कहा जाता है। इनकी मृत्यु के पश्चात् सी.एस.आई.आर. ने राष्ट्रीय पुरस्कार की शुरुआत की।

बीरबल साहनी

बीरबल साहनी का जन्म नवंबर 1891 में शाहपुर पकिस्तान में हुआ था। इनके पिता रुचिराम साहनी ने कैम्ब्रिज के प्रोफ़ेसर अर्नेस रदरफोर्ड एवं कोपेनहेगन के नाइल्स बोर के साथ रेडिओ सक्रियता पर शोध कार्य किया। इसी से प्रेरणा लेकर बीरबल लन्दन एवं कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से डीएससी की उपाधि प्राप्त की। इनके अनुसंधान में जीव विज्ञान तथा जीवाश्म की अधिकता है।

बेंकटरमन रामकृष्णन

तमिलनाडु के चिदंबरम जिले से आने वाले भारतीय मूल के वेंकटरमन रामकृष्ण को 2009 में रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार दिया गया। रामन को यह पुरस्कार कोशिका के अंदर प्रोटीन का निर्माण करने वाले

राइबोसोम की कार्य प्रणाली व संरचना के उत्कृष्ट अध्ययन के लिए दिया गया।

सुब्रह्ण्यम चंद्रशेखर

सुब्रह्ण्यम चंद्रशेखर को 1983 में भौतिकशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया। डॉ. सुब्रहण्यम चंद्रशेखर ने तारे की अवस्थाओं का अध्ययन करके यह बताया की कौन – सा तारा श्वेत वामन परिवर्तित होगा। इसके लिए उन्होंने 2.8 सौर्यिक दृव्यमान की अवधारणा दी। उनके द्वारा दी गई इस सीमा को चंद्रशेखर सीमा कहा जाता है। इस भारतीय वैज्ञानिक की इस खोज ने दुनिया की उतपत्ति के रहस्यों को सुलझाने में बहुत योगदान दिया। वे महान भारतीय वैज्ञानिक सी. वी. रमन के भतीजे थे। उनका नाम 20 वी शताव्दी के महान वैज्ञानिको की सूची में शुमार किया जाता है। उन्होंने खगोल , भौतिकशास्त्र तथा सौरमंडल से सम्बंधित विषयो पर अनेक पुस्तके लिखी।

हरगोविंद खुराना

भारतीय मूल के इस अमेरिकी नागरिक और वैज्ञानिक डॉ. हरगोविंद खुराना को 1968 में चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार दिया गया। उन्होंने आनुवांशिक कोड ( डीएनए ) की व्याख्या की और उसका अनुसंधान किया। खुराना ने मार्शल ,निरेनबग और रॉबर्ट होल्ले के साथ मिलकर चिकित्सा के क्षेत्र में काम किया। खुराना के इस अनुसंधान से चिकित्सा क्षेत्र को यह पता लगाने में मदद मिली की कोशिका के अनुवांशिक कूट (कोट ) को ले जाने वाले न्यूक्लिक अम्ल (एसिड ) न्यूक्लिओटाइटस कैसे कोशिका के प्रोटीन संश्लेषण को नियंत्रित करते है।

मेघनाद साहा

मेघनाद साहा का जन्म 1893 को ढाका के निकट हुआ था। यह सुप्रसिद्ध भारतीय खगोलीय वैज्ञानिक थे ,जो साहा समीकरण के लिए प्रसिद्द है। यह समीकरण तारो में भौतिक एवं रासायनिक स्थिति की व्याख्या करता है। विद्यार्थी जीवन में उन्होंने जगदीशचंद्र बासु एवं प्रफुलचन्द्र राय से शिक्षा प्राप्त की। वे 1934 के भारतीय विज्ञान कांग्रेस के अध्यक्ष रहे।

चिंतामणि नागेश रामचन्द्रराव

चिंतामणि नागेश रामचन्द्रराव का जन्म 30 जून 1934 में बैंगलुरु में हुआ। इन्होने धन – अवस्था और संरचनात्मक रसायनशास्त्र के क्षेत्र में मुख्य रूप से काम किया है। वर्तमान में वह भारत के प्रधानमन्त्री के वैज्ञानिक सलाहकार परिषद् के प्रमुख के रूप में सेवा कर रहे है। डॉ. राव को दुनियाभर के 60 विश्व विद्यालयों से मानद डॉक्टरेट प्राप्त है। इन्होने लगभग 1500 शोधपत्र और 45 वैज्ञानिक पुस्तके लिखी है। वर्ष 2013 में भारत सरकार ने उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्म्मानित करने का निर्णय लिया सी. वी. रमन और ऐ.पि.जे. अब्दुल कलाम के बाद इस पुरस्कार से सम्मानित किय जाने वाले वे तीसरे ऐसे वैज्ञानिक है। डॉ. राव अंतर्राष्ट्रीय पदार्थ विज्ञान केंद्र (इंटरनेशनल सेंटर फॉर मटेरियल साइंस )के निदेशक भी है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *