भारतीय कला एवं संस्कृति के महत्वपूर्ण Gk questions | arts and culture in hindi

Gk questions bharatiya kala evam sanskriti 

bharatiya kala evam sanskriti भारत की कला एवं संस्कृति दुनिया में प्रसिद्द है इससे सम्बंधित Gk questions परीक्षाओ में अक्सर पूछे जाते है .हमने भारतीय कला (bhartiya kala ), भारतीय संस्कृति (bhartiya sanskriti) से सम्बंधित बहुत ही महत्वपूर्ण प्रश्नों का संग्रह किया है इनको ध्यान से पढ़े अक्सर परीक्षाओ में पूछे जाते है
most important gk question ,arts and culture gk question
भारतीय कला एवं संस्कृति के महत्वपूर्ण Gk questions | arts and culture in hindi 

bharatiya kala evam sanskriti gk question

  • भरतनाट्यम तमिलनाडु का प्रमुख शास्त्रीय नृत्य है जिसे कर्नाटक संगीत के माध्यम से एक व्यक्ति प्रस्तुत करता है .
  • भरतनाट्यम के तीन प्रमुख घराना है – तंजौर , कांचीपुरम एवं पंडनलूर.
  • ई. कृष्ण अय्यर तथा यामिनी कृष्णमूर्ति भरतनाट्यम के प्रमुख कलाकार हैं .
  • कथकली केरल का प्रमुख शास्त्रीय नृत्य है कथकली की गीतों की भाषा मलयालम है .
  • 1968 में हिंदी गीतों पर पहली बार कथकली प्रस्तुत की गई थी कथकली मंच पर काले वस्त्रों का प्रयोग होता है , कत्थक उत्तर भारत का प्रमुख शास्त्रीय नृत्य है .
  • कुचिपुड़ी आंध्र प्रदेश का प्रमुख शास्त्रीय नृत्य है .
  • वल्लत्तोल नारायण मेनन , आनंद शिवरामन , माधवन , कृष्णन कुट्टी कथकली के प्रमुख कलाकार हैं .
  • उड़ीसी उड़ीसा में प्रचलित नृत्य कला का प्राचीन शैली है .
  • ओडिसी नृत्य पूर्णता आराधना का नृत्य है .
  • सोनल मानसिंह, केलुचरण महापात्र तथा कालीचरण पटनायक ओडिसी नृत्य के प्रमुख कलाकार हैं.
  • भारतीय शास्त्री नृत्य में नौ 9 रस हैं.
  • मोहिनीअट्टम नृत्य का संबंध केरल से है .
  • यक्षगान कर्नाटक का प्रमुख लोक नृत्य है , यक्षगान में नृत्य और गान का संगम होता है
  • जात्रा पश्चिम बंगाल का लोकनाट्य है
  • हरिप्रसाद चौरसिया एक प्रसिद्द बांसुरी वादक है .
  • शिवकुमार शर्मा का संबंध संतुर से है , अजंता तथा एलोरा की गुफा औरंगाबाद महाराष्ट्र में है .
  • नागर शैली( स्थापत्य शैली )का प्रसार हिमालय से लेकर विंध्य पर्वतमाला तक है . मुक्तेश्वर मंदिर (उड़ीसा), लिंगराज मंदिर (भुवनेश्वर उड़ीसा) , खजुराहो का मंदिर (मध्य प्रदेश) नागर शैली का उदाहरण है.
  • नागर वास्तु कला शैली सही रूप में गुप्त काल में प्रगट हुई थी.
  • कांचीपुरम तथा एलोरा का कैलाश मंदिर ,और तंजौर का वृहदेश्वर मंदिर द्रविड़ शैली का उत्कृष्ट उदाहरण है .
  • नागर एवं द्रविण शैली के मिश्रित रूप वेसर शैली कहलाता है
  • कुक्कानुर का कालीश्वर मंदिर और लक्कुडी का जैन मंदिर वेसर शैली के उदाहरण है .
  • सल्तनत कालीन वास्तुकला का भव्य नमूना दिल्ली स्थित कुतुब मीनार है .
  • कला की गांधार शैली का विकास कुषाण के समय में हुआ .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *