एक ब्लॉगर की लाइफ / blogger life / my story /

          

           hello फ्रेंड्स आज में आपसे एक शुरूआती ब्लॉगर की लाइफ ज़िंदगी के बारे में शेयर करना चाहता हु।  जो में अभी हु फ्रेंड्स अभी रात के 4  बज रहे  है रात के कहो या  सुबह के कहो मुझे कोई फर्क नई पड़ता क्योकि में तो कल के 4  बजे से  बैठा हु सिर्फ इसलिए की मे भी अच्छा  ब्लॉगर बन जाऊंगा मुझे भी ऑनलाइन कमाई होने लगेगी लगा हु कोसिस में कुछ अच्छा करूँगा कुछ यूनिक बनाऊंगा अपने देश के लिए कुछ  अच्छा करूँगा अपनी फॅमिली के लिए कुछ अच्छा करूँगा गूगल एडसेंस से पैसे कमाऊंगा पर यारो जबसे ब्लॉगर का भूत सबर हुआ है तबसे  कुछ करने लायक नहीं बचा हु अभी तो ऐसी कंडीशन आ गई है में जो कंप्यूटर उपयोग कर  रहा हु उसी का बिजली बिल निकाल पाना मेरे लिए मुश्किल हो रहा है।  घर में फॅमिली प्रेसर अलग रहता है।  लड़का कुछ करता नहीं ,,,, कुछ करता नहीं ,, अब उनको क्या समझाऊ लड़का करता  तो है पर कुछ हो नहीं पा  रहा  है। . आँखों का अलग बेहाल हो गया  दिमाग का अलग हे गूगल तुम कहा ले जेक  छोड़ोगे  !!! अब गूगल में एहि सर्च करना बाकि रह गया है की मेरी लाइफ में क्या कर पाउँगा क्योकि तुम तो सब जानते हो तुम्हारे पास तो मेरे बारे में जो मुझे नहीं पता बो तुम्हे पता है तुम तो मुझे मुझसे ज्यादा जानते हो तो तुम ही बता सकते हो मेरा भविष्य।  क्योकि में इतने सालो से तुम पे कुछ नया कुछ यूनिक बनाना  चाहता हु।  पर क्या में बना पाउँगा  जो भी में दिमाग लगता हु फिर उसको थोड़ा सा टाइप  करता हु  फिर अचानक से मुझे  याद  आता है की गूगल बाबा में एक बार सर्च तो करलू तो यार पता चलता  है जिस को में बनाने बाला था उसको तो मुझसे कई गुना बेहतर किसि ने बना  चुका    है। .. …. फिर में  किसिस ने टॉपिक में रिसर्च करता हु बहुत मुश्किल से मुझे कुछ मिलता है और में  बड़ी शान से सोचता हु ये  नया है और गूगल के  पास अब ये जानकारी नहीं है मुझे प्राउड  फील होता है है की में  कुछ गूगल को नया  दे  रहा  हु।  और में उसको लिखने बैठ जाता और में उसे लगभग आधा टाइप भी कर लेता हु।  फिर पता नहीं मुझे आ जाता है एक बार गूगल बाबा से पुछा जाय की क्या ये टॉपिक आपके पास है।  और फिर क्या मेरी आँखे खुली की खुली रह जाती है गूगल  बाबा को तो सब पता है।  लेकिन गूगल बाबा जी आप भी एक बात याद रख  लीजिये में हिन्दुस्तानी हु।  इतनी आसानी से हार नहीं मान सकता देखना आपको एक दिन नया टॉपिक दे कर रहूँगा चाहे फिर मुझे कितना भी वक्त देना पड़े अब तो सीधा तुमसे ही टककर  है आज सिर्फ 12  घंटे काम किया हु कल 24  घंटे करूँगा लेकिन अपने लक्ष  को पा कर ही रहूँगा गूगल बाबा मेरा आपसे वादा है।..,,,,,,,,,…..

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *