अंतरिम बजट 2019-20/बजट 2019-20 की जानकारी हिंदी में/budget 2019-20 in hindi/करंट अफेयर्स 2019हिंदी में /current affairs 2019 in hindi हिंदी बजट पार्ट- 2

अंतरिम बजट 2019-20

बजट 2019 -20 का यह पार्ट 2 है यहाँ हम जानेंगे 10 वर्षीय विजन के 10 आयाम के बारे में। वर्ष 2014 से 2019 के दौरान अर्थव्यवस्था की स्थिति को जानेंगे। राजकोषीय घाटे में क्या परिवर्तन आया। पिछली सरकार की तुलना में महगाई दर क्या है। और भी बहुत कुछ आइये जानते है। –

मुद्रास्फीति 

पिछले 5 वर्षो में सरकार औसत महगाई दर को 4.6 % तक नीचे लाने में सफल रही है ,जो किसि अन्य सरकार के कार्यकाल के दौरान महगाई दर की तुलना में कम है।  वस्तुतः दिसंबर 2018 में महगाई दर 2.19 %तक नीचे आ गई थी। यदि महगाई पर नियंत्रण नहीं किया होता तो परिवारों को खाद्य यात्रा ,उपभोक्ता वस्तुओ आवास आदि जैसे मूलभूत जरूरतों पर 35-40 %अधिक खर्च करना पड़ता। वर्ष 2009 -2014  के दौरान 5 वर्षो में औसत महगाई दर 10.1 % के स्तर पर थी 

10 वर्षीय विजन के 10 आयाम  

  1. इस परिकल्पना के प्रथम आयाम के अंतर्गत 10 ट्रिलियन की आर्थव्यवस्था और सहज – सुखद जीवन के लिए भौतिक तथा सामजिक अवसंरचना का निर्माण करना है। 
  2. परिकल्पना के दुसरे आयाम के अंतर्गत एक ऐसे डिजिटल भारत का निर्माण करना है ,जहा हमारा युवा वर्ग डिजिटल भारत के स्रजन में व्यापक स्तर पर स्टार्ट -अप  और एक -सिस्टम में लाखो रोजगारो का सृजन करते हुए इसका नेतृत्व करेगा। 
  3. भारत को प्रदूषण मुक्त राष्ट्र बनाने के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों और नवीकरणीय ऊर्जा पर विशेष ध्यान देना। 
  4. आधुनिक डिजिटल प्रद्यौगिकियो का उपयोग करके ग्रामीण औद्योगिकीकरण के विस्तार के माध्यम से बड़े पैमाने पर रोजगार का सृजन करना। 
  5. सभी भारतीयों के लिए सुरक्षित पेयजल के साथ स्वच्छ नदिओं और लघु सिचाई तकनीकों को अपनाने के माध्यम से सिंचाई में जल का कुशल उपयोग करना। 
  6. सागरमाला कार्यक्रम के प्रयासों में तेजी लाने के साथ भारत के तटीय और समुद्री मार्गो के माध्यम से देश के विकास को सशक्त बनाना। 
  7. हमारा अंतरिक्ष कार्यक्रम गगनयान ,भारत दुनिया के उपग्रहों को प्रक्षेपित करने का लांच पेड़ बन चूका है और वर्ष 2022 तक भारतीय अंतरिक्ष यात्री को अंतरिक्ष में भेजना इस आयाम को दर्शाता है। 
  8. सर्वाधिक जैविक तरीके से खाद्यान उत्पादन और खाद्यान निर्यात में भारत को आत्मनिर्भर बनाना और विश्व की खाद्यान आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए खाद्यानो का निर्यात करना। 
  9. 2030 तक स्वस्थ भारत और एक बेहतर स्वास्थ देखभाल एवं व्यापक आरोग्य प्रणाली के साथ -साथ आयुष्मान भारत और महिला सहभागिता भी इसका एक महत्वपूर्ण घातक होगा  . 
  10. भारत को न्यूनतम सरकार , अधिकतम शासन वाले एक ऐसे राष्ट्र का रूप देना , जहा एक चुनी हुई सरकार के साथ कंधे से कंधे मिलाकर चलने वाले सहकर्मिओ और अधिकारिओ के शासन को मूर्त रूप दिया जा सकता है। 

वर्ष 2014 -19 के दौरान अर्थव्यवस्था की स्थिति 

भारत ने पिछले 5 वर्षो के दौरान वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक मजबूत अर्थव्यवस्था के तौर पर सार्वभौमिक पहचान बनाई। वर्ष 2014 -19 के दौरान देश बहुत -आर्थिक स्थिरता के अपने सर्वश्रेष्ठ दौर का साक्षी बना। 2013 -14 के 11 वी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था से अब दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना। सरकार ने 2009 -14 के दौरान की उच्च मुद्रा स्फीति को न्यूनतम स्तर पर पहुंचाया। किसि भी अन्य सरकार की तुलना में औसत मुद्रा स्फीति घटकर 4. 6%पर पहुंची। दिसंबर ,2018 में मुद्रा स्फीति केवल 2. 19 % पर पहुंची। 7 वर्ष पूर्व करीब 6 % की उच्च दर से 2018 -19 में वित्तीय घटा घटकर 4.6 % तक पंहुचा। सीएडी के 6 वर्ष पहले की उच्च 5.6 %की तुलना में इस वर्ष सकल घरेलु उत्पाद के मात्र 2.5% रहने की संभावना है। पिछले 5 वर्षो के दौरान भारत ने 239 बिलियन के व्यापक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को आकर्षित किया। भारत ने विकास और समृद्धि के पथ पर दृढ़ता पूर्वक वापसी की। भारत विश्व की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में सबसे तेज गति से उभरने वाली अर्थव्यवस्था बना। मुद्रा स्फीति को दो अंको पर रोका गया वित्तीय संतुलन बहाल किया गया। स्वचालित माध्यम से सर्वाधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को स्वीकृति देते हुए FDI नीति में उदारीकरण किया गया।  

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *